श्री राजीव गांधी

Rajiv प्रधानमंत्रीम्‍मू-कश्‍मीमे

राजीगांध
सबसेहलज़रूरतकिैलकीमदहमढ़ायें, वैलीआमदन, आजकलमहीने-ालहोतीै।महीनबेकाबैठतहैलोग।बसपहली़रूरहैि इसछःहीनेहमारमहीनबनायेंसबसेहलये़रूरहैहमनेोचकिगरश्मीकोगेढ़नातेज़से, तोबसज़्यादज़ोरमेटूरिज़्मडालनहैटूरिज़्मसर्दकेूरिज़्परगर्मकाू...र्मीटूरिज़्मअच्‍छालतहै, सर्दकाऔरमनतयराकिहाटंगमर-गुलमर्केियबहुतामोगा।यहांिस्‍हैहीमेरेासितनीीज़ें,ेकिनमारीोशिशकिबिल्कुविंटस्पोर्ट्काेंटरनेसेंटऐसबनकिालभरि कभबंहोअभतोसाोतहैोड़ीर्पडजातीतोाड़ीहीजाती, कभजहाजनहींता, कभकुनहींोतहैतोकान्फिडेंसनीाहिएोगोंें, वेआएंगकिआतहैतोंसहीजातेैं, तोसबकरहेैं

एकत्यंकठिनाताड़ियां,काबर्फढकथेजोाथेशनियति कोुक़द्दकोंवारहेैं, वोुवहाहीीपस्टेयरिंपरटेैं

Clip: 6/7
Duration : 1 mins 52 sec

संकेतशब्द: उद्ग‍ार,विकासपरक मुद्‍दे
खोज विडियो ऑडियो अग्रिम खोज

श्रेणी
ऑडियो/विडियो की सूचीकरण के लिए श्रेणी पर क्लिक करें
जीवनवृत्त (16 | 2 )
तिथि, अवसर/घटनाएं,स्‍थल (17 | 17 )
व्‍यक्‍ति, स्‍थान एवं वस्‍तुएं (87 | 7 )
राजनैतिक मुद्‍दे (93 | 12 )
आर्थिक मुद्‍दे (42 | 7 )
सामाजिक मुद्‍दे (85 | 10 )
विकासपरक मुद्‍दे (70 | 11 )
अन्‍तर्राष्‍ट्रीय मुद्‍दे (28 | 1 )
उद्ग‍ार (100 | 0 )

श्री राजीव गांधी

भारत के युवतम प्रधानमंत्री राजीव गांधी को देश आज भी तहेदिल से याद करता है कि उन्‍होंने इक्‍कीसवीं सदी में भारत को पूरे आत्‍मविश्‍वास के साथ ले जाने का स्‍वप्‍न देखा। राजनीति में आने के अनिच्‍छुक राजीव गांधी ने अपना केवल एक कार्यकाल ही प्रधानमंत्री के बतौर गुज़ारा लेकिन देश पर अपनी अमिट छाप छोड़ी। आर्थिक उदारीकरण की प्रक्रिया उनके ही समय में शुरू हुई थी और उन्‍होंने ही विकास की कई परियोजनाएं आरम्‍भ कीं, जिन्‍हें हम आज नेशनल मिशन्‍स के रूप में जानते हैं। राजीव गांधी ने ज़िम्‍मेदारियों को पूरा करने की भावना को गति दी और लाखों भारतीय युवकों में तकनीक के प्रति उत्‍साह भरा। उनके द्वारा परिकल्‍पित टेलीकॉम मिशन ने भारत में सूचना और संचार-क्रांति की आधारशिला रखी। भारतीय समाज में ‘राजीव युग’ को युगांतरकारी माना जायेगा।


लोकप्रिय खोज
ऑडियो/विडियो देखने के लिए लिंक पर क्लिक करें
राजीव – फूलवालों की सैर
राजीव - स्‍वतंत्रता दिवस पर राष्‍ट्र के नाम संदेश
राजीव - बज्म: इनागुरेशन ऑफ़ उर्दू कंप्यूटर बी श. राजीव गाँधी

जीवन-वृत्त
1944, August 20
Birth of Rajiv Gandhi in Mumbai
1945
Rajiv, along with his mother Indira Gandhi, went to Anand Bhavan in Allahabad
1946, December 14
Birth of younger brother Sanjay Gandhi