श्री राजीव गांधी

ाजीव्‍वतंत्रतािवपर्रधानमंत्रराजीगांधकााषण-1989

राजीगांध
भारतवासियो, मैआपकोके्‍वतंत्रतािवकेियबधाईेनचाहतहूं।न्याकुमारीलेकराराकोरतक, कच्‍सेेकअरुणाचकेूर्वकोनेऔरसबिंदुस्तानीारकेाहदुनियाेंैं, अलग-अलदेशोमें,नकमैशुभकामनाएं, आजदिकेियदेनााहताूं42ालुएारआज़ाहुथायहींइसलालक़िलेपंडिजीे,मारािरंगझंडा, पहलीार, आज़ाभारतेंहरायथाआजउसतरसे, जबंडलहराया, तोतरसेुझलगकिेरहाइसंडकोहीखोरहथेल्किेरहाकेाथारके 80 करोडलोगोकेाथुटहुथे्‍योंकि येंडा,झंडा, एक़ाझंडाै।सीिरंगकेीचहमनेज़ादकेियलड़ालड़ीी,सीिरंगकेीचदेकोमनमज़बूतनायाै,ज़ादखाै,ेशआगबढ़ायाै।हम्‍वतंत्रतािवपरझंडेलहरातेैं, तोभारतआज़ादीप्रतीकै,ारकी्‍वतंत्रताप्रतीकै।मारीभारत, हरिंदुस्तानीआज़ादीप्रतीकै।स्वतंत्रतािवपर, हम, हमारलाखोस्वतंत्रताेनानियोंयाकरतेैं, लाखों,िनकाामइतिहासेंगयहै, छिगयहै, यहमेमालूनहींहज़ारों,िनकी़ुर्बानियाइतिहासेंगयहैं,आजहमारसामननहींैंसामेहमस्वतंत्रताेनानियोंभीन्यवादेनचाहतहैं,आजमारेीचैंजबहमज़ादारकाोचतेैं, तोमेहमारस्वतंत्रताेनानसामनदिखायीेनचाहिए।न्होंनबहुतड़क़ुर्बानदी, बहुतड़संघर्षिया,रह-तरहचुनौतियोकाुक़ाबलकियाभारतआज़ाकरनेकेिये,ारकोज़बूकरनेलिये, भारतआगबढ़ानेलियेलेकिआजमारा़ाध्यागांधजीतरफ़, पंडिजीतरफ़, शास्त्रीकीरफऔरंदिरजीतरफ़ातहै

 

Clip: 1/14
Duration : 4 mins 7 sec

संकेतशब्द: उद्ग‍ार,तिथि, अवसर/घटनाएं स्‍थल,राजनैतिक मुद्‍दे,व्‍यक्‍ति, स्‍थान एवं वस्‍तुएं
खोज विडियो ऑडियो अग्रिम खोज

श्रेणी
ऑडियो/विडियो की सूचीकरण के लिए श्रेणी पर क्लिक करें
जीवनवृत्त (16 | 2 )
तिथि, अवसर/घटनाएं,स्‍थल (17 | 17 )
व्‍यक्‍ति, स्‍थान एवं वस्‍तुएं (87 | 7 )
राजनैतिक मुद्‍दे (93 | 12 )
आर्थिक मुद्‍दे (42 | 7 )
सामाजिक मुद्‍दे (85 | 10 )
विकासपरक मुद्‍दे (70 | 11 )
अन्‍तर्राष्‍ट्रीय मुद्‍दे (28 | 1 )
उद्ग‍ार (100 | 0 )

श्री राजीव गांधी

भारत के युवतम प्रधानमंत्री राजीव गांधी को देश आज भी तहेदिल से याद करता है कि उन्‍होंने इक्‍कीसवीं सदी में भारत को पूरे आत्‍मविश्‍वास के साथ ले जाने का स्‍वप्‍न देखा। राजनीति में आने के अनिच्‍छुक राजीव गांधी ने अपना केवल एक कार्यकाल ही प्रधानमंत्री के बतौर गुज़ारा लेकिन देश पर अपनी अमिट छाप छोड़ी। आर्थिक उदारीकरण की प्रक्रिया उनके ही समय में शुरू हुई थी और उन्‍होंने ही विकास की कई परियोजनाएं आरम्‍भ कीं, जिन्‍हें हम आज नेशनल मिशन्‍स के रूप में जानते हैं। राजीव गांधी ने ज़िम्‍मेदारियों को पूरा करने की भावना को गति दी और लाखों भारतीय युवकों में तकनीक के प्रति उत्‍साह भरा। उनके द्वारा परिकल्‍पित टेलीकॉम मिशन ने भारत में सूचना और संचार-क्रांति की आधारशिला रखी। भारतीय समाज में ‘राजीव युग’ को युगांतरकारी माना जायेगा।


लोकप्रिय खोज
ऑडियो/विडियो देखने के लिए लिंक पर क्लिक करें
राजीव – फूलवालों की सैर
राजीव - स्‍वतंत्रता दिवस पर राष्‍ट्र के नाम संदेश
राजीव - बज्म: इनागुरेशन ऑफ़ उर्दू कंप्यूटर बी श. राजीव गाँधी

जीवन-वृत्त
1944, August 20
Birth of Rajiv Gandhi in Mumbai
1945
Rajiv, along with his mother Indira Gandhi, went to Anand Bhavan in Allahabad
1946, December 14
Birth of younger brother Sanjay Gandhi